Friday, February 22, 2019

मज़ेदार चुटकुला- मैं बीवी को और सहन नहीं कर सकता जज साहब

पप्पू भाई ने तलाक के लिए कोर्ट में अर्जी दी

जज–तुम्हें तलाक क्यों चाहिए?

पप्पू–मैं बीवी को और सहन नहीं कर सकता जज साहब

रोज रात को वो निकलती है और एक डांस-बार से दूसरे

डांस-बार, दूसरे डांस-बार से तीसरे डांस-बार

ऐसे वो सारे डांस-बारों के चक्कर लगाती

आधी रात को घर लौटती है

जज–लेकिन आपकी बीवी ऐंसा क्यों करती है?

पप्पू–वो मुझे ढूँढती है, जज साहब।


एक आशिक़ अपने महबूब को मनाते हुए,

अब कभी नजर नहीं डालूंगा तुम्हारी सहेली पर

अब तो आओगी ना हवेली पर

महबूब–क्या कहा भाग जा यहाँ से

मैं नहीं मानने वाली

आशिक़–अरे डार्लिंग मजाक कर रहा हूँ

हवेली नहीं तुम घर ही आना।

ससुर(अपने दामाद से)- तुम्हें मैं हीरे जैसी

करोड़ों की बेटी दी है।

दामाद-रहने दीजिए,अब ये बताइए,

कि कितने रुपए में वापस लेंगे,

ससुर जी अब तक बेहोश है।


एक बार एक चूहा अपना एक पैर आगे निकाले खड़ा था।

किसी ने पूछा: क्यों खड़े हो।

तो वो बोला: हाथी आने वाला है,

साले को लंगड़ी फंसाऊंगा।


पप्पू की पत्नी अपने मायके जा रही थी,

जाते-जाते पप्पू से बोली तुम अपना ध्यान रखना,

सुना है,आजकल बहुत डेंगू फैल रहा है,

पप्पू सिर पकड़कर बोला-मेरा सारा खून तो तू ही पी गई थी,

अब मच्छर क्या रक्त दान करने आएँगे.


पप्पू अपनी गर्लफ्रेंड को किस कर रहा था,

किस करते हुए काफी टाइम हो गया,

गर्लफ्रेंड (पप्पू से)-अब बस भी करो,

पप्पू-हाय रब्बा अब बस में चलना है क्या.


एक बुड्ढा व्यक्ति नाई की दुकान पर गया....

नाई उस आदमी के सर पर 2-3 बाल देखकर बोला....

" क्या करूँ इनका, काटूँ या फिर गिनूँ "

बुड्ढा व्यक्ति :- कलर कर दे...!!

रामू ने के अपने कॉलेज की लड़की को प्रपोज किया

रामू का प्रपोजल उस लड़की ने कुछ ऐसा कहकर ठुकरा दिया...

" रोटी तंदूर की अच्छी, दोस्ती दूर की अच्छी।


हर युग में ऐसा होता है

हर स्टूडेंट इश्क में खोता है

पढ़ाई रह जाती है सिर्फ दिखावे की

और फिर हाल-ए-दिल–मार्कशीट पर बयाँ होता है।

पप्पू- तुम्हारा कुत्ता बहुत शरारती है।

क्या तुम इसे ठीक नहीं कर सकते?

चिंटू- यार! धैर्य रखो। याद नहीं,

तुम्हें ठीक करने में मुझे कितने दिन लगे थे।

मेरा आर्टीकल पुरा पढ़ने के लिए घन्यवाद और अच्छा लगे तो मुझे फौलौ करें। अगर आप को हंसी आई है तो दुसरो को भी हंसाना, घन्यवाद.

No comments:

Post a Comment